खराब हार्ड ड्राइव से डेटा कैसे रिकवर करें?

हार्ड ड्राइव अपनी अधिक स्टोरेज क्षमता, कम कीमत और सही देखभाल के साथ एक लम्बी लाइफ लाइन की वजह से उपयोग किए जाने वाले स्टोरेज डिवाइस में से एक हैं। हाल ही में, टेक्नोलॉजी में तेजी से उन्नति हुई है। सस्ते और हाई स्पीड वाले इंटरनेट की आसान उपलब्धता की वजह से पर्सनल और ऑफिसियल डेटा को सेव करने की आवश्यकता के कारण डेटा क्रिएशन (उदाहरण के लिए, किसी डॉक्युमेंट या वीडियो को डाउनलोड करना आदि) ने हार्ड ड्राइव जैसे स्टोरेज डिवाइस के उपयोग को बढ़ा दिया है। इसीलिए खराब हार्ड ड्राइव के आंकड़े भी बढ़ते जा रहे हैं।

Stellar Anniversary Offer

इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (IDC) की भविष्यवाणी के अनुसार दुनिया भर में बनाया गया डेटा 2018 में 33 Zettabytes (ZB) से बढ़कर 2025 तक 175 ZB हो जायेगा । डेटा क्रिएशन में इस बड़े पैमाने पर वृद्धि के कारण स्टोरेज डिवाइस की मांग भी बहुत अधिक दर से बढ़ेगी। आईडीसी का अनुमान है कि 2018 से 2025 तक 22 ZB से अधिक स्टोरेज क्षमता सभी प्रकार के मीडिया डिवाइस में होगी, जिसमे से 59% स्टोरेज क्षमता HDD (हार्ड डिस्क ड्राइव) में होगी।

Click here to read this post in English

Annual size of data created globally

इमेज सोर्स: https://bit.ly/2CbhZN1

ऊपर दिए गए आंकड़े बताते हैं कि हम बड़ी मात्रा में डेटा को स्टोर करने के लिए हार्ड ड्राइव पर निर्भर हैं। इस निर्भरता के कारण, हार्ड ड्राइव क्रैश एक डरावनी परिस्थिति हो सकती है क्योंकि इसके परिणामस्वरूप भारी डेटा लॉस हो सकता है।

क्या आपने अपना महत्वपूर्ण डेटा खो दिया है क्योंकि आपकी हार्ड ड्राइव क्रैश हो गई है? क्या आप टूटी हुई या खराब हार्ड ड्राइव से डेटा रिकवर करना चाहते हैं? इस ब्लॉग में, हम एक क्रैश हार्ड ड्राइव के लक्षणों पर चर्चा करेंगे।

क्रैश हार्ड ड्राइव से आप क्या समझते है?

“क्रैश हार्ड ड्राइव” एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग उस हार्ड ड्राइव के लिए किया जाता है जो काम करना बंद कर देती है। हार्ड डिस्क किसी भी फिजिकल डैमेज या लॉजिकल फेलियर के कारण क्रैश हो सकती है।

आप कैसे चेक करेंगे कि आपकी हार्ड ड्राइव क्रैश हो गई है?

हार्ड ड्राइव क्रैश से पहले होने वाले निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव करें:

क्रैश होने से पहले, हार्ड ड्राइव आपको खराब होने के संकेत देती है, जैसे की कोई एरर या पॉप अप मैसेज। ये लक्षण या तो फिजिकल डैमेज या लॉजिकल फेलियर से जुड़े हो सकते हैं।

फिजिकल डैमेज हार्ड ड्राइव के लक्षण

हार्ड ड्राइव से क्लिक, ग्राइंडिंग या किसी अन्य प्रकार के शोर का आना एक क्रैश हार्ड ड्राइव का संकेत हैं। हार्ड ड्राइव में हीटिंग भी हार्ड ड्राइव फेलियर का एक संभावित संकेत है।

हार्ड ड्राइव के फिजिकल डैमेज से आपके सिस्टम या पर्सनल फाइलों का नुकसान हो सकता है। इसलिए, यदि आपको लगता हैं कि आपका डेटा लॉस हो गया है, या आपको संदेह है कि कुछ सिस्टम फाइलें गायब हैं, या सिस्टम स्लो हो गया है, या आपकी हार्ड ड्राइव डिटेक्ट ही नहीं हो रही है तो आप इसे फिजिकल डैमेज का संकेत मान सकते हैं। हार्ड ड्राइव के फिजिकल डैमेज से सिस्टम या पर्सनल फाइलों का नुकसान हो सकता है। इसलिए, यदि आपको लगता हैं कि आपका डेटा गायब हो गया है या आपको संदेह है कि कुछ सिस्टम फाइलें गायब हैं क्योंकि सिस्टम स्लो हो गया है, तो आप इसे फिजिकल डैमेज का संकेत मान सकते हैं।

यदि आप अपनी मशीन को ऑन करने के बाद ब्लू स्क्रीन ऑफ डेथ एरर को देखते हैं और आगे नहीं बढ़ पाते है, तो आपकी हार्ड ड्राइव फिजिकली डैमेज हो सकती है।

लॉजिकल फेलियर हार्ड ड्राइव के लक्षण

यदि आप निम्नलिखित लक्षणों को देखते हैं, तो आपकी हार्ड ड्राइव खराब होने वाली है। हार्ड ड्राइव एक सेंसिटिव डिवाइस है और ध्यान न रखने पर हार्ड ड्राइव पूरी तरह से खराब हो सकती है:

  • The PC won’t boot into the OS
  • You are unable to open a file
  • Your PC has become sluggish
  • Some data is missing
  • Your files are getting corrupt
  • Your PC returns an error “File not found” while trying to boot
  • You see a blue screen (Also called Blue Screen Of Death)

यदि आप हार्ड ड्राइव क्रैश के संकेतों को ऑब्ज़र्व करने और इमीडियेट एक्शन लेने के लिए रेडी हैं, तो आपका आधा काम हो चूका है। आपके द्वारा लिया गया एक्शन आगे होने वाली डेटा हानि को रोकेंगे और डेटा रिकवरी को आसान और कुशल बनाएंगे।

क्रैश हार्ड ड्राइव से डेटा रिकवर करने के लिए स्टेप्स

क्रैश हार्ड ड्राइव से डाटा रिकवरी इस बात पर निर्भर करती है की हार्ड ड्राइव किस प्रकार से क्रैश है – लॉजिकल या फिजिकल। जिसे पहले अनुभागों में बताये जाने वाले विफलता के लक्षणों की सहायता से आसानी से पता लगाया जा सकता है।

एक बार जब आप हार्ड ड्राइव क्रैश के सही प्रकारको जान जाएँगे, तो स्टोरेज मीडिया को संरक्षित करते हुए अपने डेटा को सुरक्षित रूप से वापस लाने के लिए इन नोट्स और चरणों का पालन करें।

नोट्स:

  1. डेटा रिकवरी के लिए हिट-एंड-ट्रायल के तरीकों का उपयोग करने से बचें, क्योंकि इससे परमानेंट डेटा हानि हो सकती है।
  2. अपने आप एक क्रैश हार्ड ड्राइव को खोलने का कभी प्रयास न करें।
  3. जैसे ही आप दुर्घटना के लक्षणों का निरीक्षण कर लेते हैं तो आप डेटा का बैकअप बना लें यदि आप अभी भी हार्ड ड्राइव को एक्सेस कर सकते हैं तो।
  4. प्रोफेशनल डेटा रिकवरी सॉफ्टवेयर को केवल उसी स्थिति में आजमाएं जब आप सुनिश्चित हों कि यह एक लॉजिकल ड्राइव फेलियर है।
  5. यदि यह एक फिजिकल दुर्घटना का मामला है, तो हार्ड डिस्क का उपयोग करना बंद करें। सुरक्षित डेटा रिकवरी के लिए प्रोफेशनल डेटा रिकवरी सर्विस की तत्काल मदद लें।

निष्कर्ष:

उपर्युक्त उपाय और नियमित रूप से डाटा बैकअप लेना क्रैश हार्ड ड्राइव के मामले में डेटा हानि से बचने की कुंजी है। क्रैश हार्ड ड्राइव से डेटा को रिकवर करने का विकल्प चुनना आपका निर्णय है। अपने आप डेटा रिकवर करने की कोशिश आपके डाटा के लिए ख़तरनाक हो सकती है। तो, एक क्रैश हार्ड ड्राइव से डेटा को रिकवर करने में साबित ट्रैक रिकॉर्ड रखने वाले अनुभवी, प्रसिद्ध और भरोसेमंद ब्रांड का चयन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *