डेटा को मिटाने के बेस्ट तरीके कौन से हैं?

डेटा व्यवसाय के लिए सबसे महत्वपूर्ण संपत्तियों में से एक है। डेटा प्राइवेसी और गोपनीयता बनाए रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। हालांकि आप अपने डेटा को लीक होने से बचाने के लिए कई सुरक्षा उपायों को शामिल करते हैं। आप डेटा मिटाते समय भी उचित सावधानी अपनाते हैं। अनुचित डेटा इरेजर मेथड्स का उपयोग करने से डेटा ब्रीच हो सकता है, जिससे भारी मौद्रिक नुकसान और प्रतिष्ठा की हानि हो सकती है।

स्टेलर की ओर से खास ऑफर

डेटा इरेजर सॉफ्टवेयर और सर्विस पर विशेष ऑफर प्राप्त करने के लिए help@stellarinfo.com पर ईमेल करें।

इस ब्लॉग में, हमने विभिन्न डेटा इरेजर विधियों के फायदे और नुकसान पर चर्चा की हैं जो आपको यह तय करने में मदद कर सकते हैं कि आपकी आवश्यकता के अनुसार सबसे अच्छा डेटा इरेजर तरीका कौन सा है।

मुख्य रूप से डेटा को मिटाने के तीन तरीके हैं – इरेजर, डीगॉसिंग और डिस्ट्रक्शन। इन डेटा सैनिटाइजेशन विधियों के अपने फायदे और नुकसान हैं।

Click here to read this post in English

विधि 1: डेटा इरेजर

यदि आप डेटा स्टोरेज डिवाइस को प्रभावित/क्षतिग्रस्त किए बिना डिजिटल डेटा को मिटा देना चाहते हैं, तो डेटा इरेजर चुनें।

बिटरेजर® ड्राइव इरेजर जैसे विभिन्न टूल हैं, जिनका उपयोग डेटा मिटाने के लिए किया जा सकता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैंडर्ड एंड टेक्नोलॉजी (एनआईएसटी) के अनुसार डेटा को ओवरराइटिंग, ब्लॉक इरेज़ और क्रिप्टोग्राफ़िक इरेज़ तकनीकों द्वारा इरेज़ किया जा सकता है।

ओवरराइटिंग – पुराने डेटा या इरेज़ किये जाने वाले डेटा को Data Eraser Software का उपयोग करके नॉन-सेंसिटिव डेटा (0 और 1) के साथ ओवरराइट कर दिया जाता है।

ब्लॉक इरेज़ – फ्लैश मेमोरी आधारित ब्लॉक मिटाता है। इसके बाद, मिटाए हुए ब्लॉकों पर ओवरराइटिंग का उपयोग किया जाता है।

क्रिप्टोग्राफिक इरेज़ – इस डेटा इरेजर तकनीक का उपयोग उन उपकरणों के लिए किया जाता है जिनमें बिल्ट-इन डेटा एन्क्रिप्शन फीचर्स होते हैं, जैसे कि सेल्फ-एन्क्रिप्टिंग ड्राइव। एक प्रभावी डेटा इरेजर टूल डिवाइस पर SEDs को डिक्रिप्ट करने के लिए उपयोग की जाने वाली key को नष्ट कर सकता है, जिससे डेटा को रिकवर नहीं किया जा सकता है।

डेटा इरेजर के फायदे

  • डेटा इरेज करने के बाद डिवाइस को फिर से उपयोग किया जा सकता है।
  • मीडिया को शिप करने की आवश्यकता नहीं होती है, और इसलिए ट्रांज़िट के दौरान डेटा ब्रीच का कोई जोखिम नहीं होता है।

डेटा इरेजर के नुकसान

  • केवल वर्किंग स्टोरेज डिवाइस पर काम करता है।
  • फ्लैश-मेमोरी-आधारित उपकरणों की लाइफ साईकल को कम करता है।

विधि 2: डीगॉसिंग

इस विधि का उपयोग मैगनेटिक स्टोरेज डिवाइस से डेटा मिटाने के लिए किया जाता है। डीगॉसिंग में, डिवाइस एक उच्च-तीव्रता वाले मैगनेटिक क्षेत्र के संपर्क में आता है जो डेटा को नष्ट करता है।

डीगॉसिंग के फायदे

  • कुछ मामलों में स्टोरेज डिवाइस अभी भी उपयोगी की जा सकती है।
  • डिवाइस काम करने की स्थिति में न होने पर भी डेटा को नष्ट किया जा सकता है।

डीगॉसिंग के नुकसान

  • नॉन मैगनेटिक डिवाइस के लिए इस विधि का उपयोग नहीं किया जा सकता है
  • उच्च मजबूती के कारण, मौजूदा डीगॉसर नए और एडवांस्ड मैगनेटिक डिवाइस को डीगॉस करने में फेल हो सकते हैं।

विधि 3: डिवाइस का फिजिकल डिस्ट्रक्शन

एक डेटा स्टोरेज डिवाइस को फिजिकल रूप से नष्ट किया जा सकता है ताकि इसे फिर से बनाना असंभव हो जाए। स्टोरेज डिवाइसेज को नष्ट करने की कुछ विधियाँ क्रशिंग, ग्राइंडिंग, डिसइंटिग्रेशन, इन्सीनरेशन, श्रेडिंग आदि हैं।

फिजिकल डिस्ट्रक्शन के फायदे

  • यह डेटा डिस्ट्रक्शन का सबसे प्रभावी तरीका है

फिजिकल डिस्ट्रक्शन के नुकसान

  • स्टोरेज डिवाइस को शिप करने की जरूरत होती है, जिससे ट्रांजिट के दौरान डेटा चोरी का खतरा हो सकता है।
  • यह डिवाइस को अनुपयोगी बना देता है।

डेटा मिटाने का सबसे अच्छा तरीका कौन सा है?

डेटा सैनिटाइजेशन विधि चुनने के लिए, आपको इस बात पर विचार करना चाहिए कि स्टोरेज डिवाइस काम कर रहा है या नहीं, स्टोरेज डिवाइस का प्रकार (मैगनेटिक या नॉन-मैगनेटिक), डेटा की संवेदनशीलता और अन्य कारक।

इन कारकों के आधार पर, आप डेटा इरेज करने वाला सॉफ़्टवेयर, डिगॉसिंग या फिजिकल डिस्ट्रक्शन विधि चुन सकते हैं।

उदाहरण के लिए, आप डेटा इरेजर सॉफ़्टवेयर का उपयोग तब कर सकते हैं जब आपका डेटा अत्यधिक संवेदनशील हो और आप अपने डिवाइस को किसी सर्विस प्रोवाइडर को नहीं भेजना चाहते।

इसी तरह, यदि डिवाइस काम करने की स्थिति में नहीं है, तो आपको फिजिकल डिस्ट्रक्शन या डिगॉसिंग का उपयोग करके डेटा को मिटाना होगा।

तीन डेटा इरेजर विधियों के बीच तुलना नीचे दी गई है। यह आपको एक उपयुक्त डेटा मिटाने की विधि चुनने में मदद करेगा:

डेटा इरेजर डीगॉसिंग फिजिकल डिस्ट्रक्शन
स्टोरेज डिवाइस खराब नहीं होती। स्टोरेज डिवाइस खराब हो सकती है। डिवाइस पूरी तरह से नष्ट हो जाती है।
डिवाइस को शिप करने की कोई आवश्यकता होती है, जिससे ट्रांज़िट के दौरान डेटा चोरी नहीं होती है। स्टोरेज डिवाइस को शिप करने की जरूरत होती है, जिससे डेटा चोरी होने की संभावना होती है। स्टोरेज डिवाइस को शिप करने की जरूरत होती है, जिससे डेटा चोरी होने की संभावना होती है।
केवल वर्किंग स्टोरेज डिवाइस पर काम करता है। नॉन-वर्किंग स्टोरेज डिवाइस से डेटा नष्ट किया जा सकता है। स्टोरेज डिवाइस की स्थिति कोई मायने नहीं रखती है।
पर्यावरण के अनुकूल डेटा इरेजर विधि। डिवाइस का फिर से उपयोग नहीं किया जा सकता है। नष्ट किये गए डिवाइस से ई-वेस्ट होता है।

फिजिकल डिस्ट्रक्शन डेटा मिटाने का सबसे प्रभावी तरीका है, लेकिन इसके लिए आपके डिवाइस को शिप करने की आवश्यकता होती है, जिससे डेटा चोरी होने की संभावना होती है। इसलिए, डेटा इरेजर सॉफ़्टवेयर जैसे BitRaser® Drive Eraser का उपयोग करके डेटा को मिटाने की सलाह दी जाती है। यह खुद से इस्तेमाल करने वाला टूल है और डेटा मिटाने के अंतर्राष्ट्रीय मानकों का उपयोग करता है। सॉफ्टवेयर इरेजर का प्रमाण पत्र भी तैयार करता है, जो रिकवरी के दायरे से परे डेटा के मिटाने की गारंटी देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.